G-V12HPFX6S9

गुलाब की खेती कैसे करें, नमस्कार दोस्तों, आज के समय में हमारे घरों में या शादी विवाह में फूलों की जरूरत तो हमें होती है, पर क्या आपको पता है कि हम किस तरीके से फूलों की खेती कर सकते हैं और फूलों की खेती करने के लिए हमारे पास कितनी भूमि होना चाहिए और फूलों की खेती में  किन चीजों की आवश्यकता होती है। आज हम आपको बताने वाले हैं, कि आप गुलाब की खेती कैसे करें। 

हमारे देश में फूलों की मांग दिनोंदिन बढ़ती जा रही है, आजकल किसी भी तरह का कोई भी फंक्शन या समारोह हो उनसे उन सभी में फूलों की आवश्यकता होती है.। एक आंकड़े के आधार पर पूरे भारत में 90 लाख मैट्रिक टन से भी ज्यादा फूलों का उत्पादन होता है। 

अगर आप फूलों की खेती करते हैं तो आप दूसरे खेती के मुकाबले फूलों की खेती में कम लागत में अधिक मुनाफा कमा सकते हैं। क्योंकि फूलों की खेती में आपको मेहनत भी कम करनी होती है और खर्च भी बहुत कम आता है। 

फूलो की बहुत सारी प्रजातीय है, आप इनमे से कोई सी भी प्रजाति का फूल लगा सकते है। फूलो में गुलाब को राजा कहा जाता है, क्योकि इसकी बहुत ही ज्यादा मांग है, बाजार मे। और इसका उत्पादन बहुत ही कम है। 

आज की हमारी इस पोस्ट में हम आपको गुलाब की खेती कैसे करें इसके बारे में आपको सारी जानकारी विस्तार से देने वाले है, ओर बताने वाले है, की इसकी खेती करके कितना मुनाफा कमा सकते है। 

Read More: गन्ने की खेती कैसे करे

गुलाब की खेती कैसे करें

अब हम आपको नीचे गुलाब की खेती कैसे करे इसके बारे में आपको सारी जानकारी विस्तार से देने वाले है। इसमे जब आपको जो स्टेप बाटने वाले है, आप उन्हे फॉलो करे और गुलाब की खेती को अच्छे तरीके से करके आप अच्छा मुनाफा कमा सकते है।

गुलाब की खेती के लिए उपयुक्त जलवायु 

गुलाब का पौधा शीतोष्ण जलवायु का पौधा है इसके पौधे को ज्यादा गर्मी की जरूरत नहीं पड़ती है। इसके पौधे में जब फूल आते हैं तो उस समय इसके पौधे  को ठंड की आवश्यकता होती है, ठंड के मौसम में इस पौधे में बहुत ज्यादा और अच्छी क्वालिटी के फूल आते हैं। इसके पौधे को 15 से 25 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान कैसे होती है। पूरे भारत में गुलाब की खेती की जाती है।

गुलाब की खेती के लिए मिट्टी

 गुलाब की खेती सभी तरह की मिट्टी में की जा सकती है। खेत की मिट्टी उपजाऊ और उसमें जीवाणु की मात्रा यानी कि केंचुआ और मिट्टी के लिए पोषक तत्व अधिक मात्रा में होने चाहिए। गुलाब की खेती के लिए वह भूमि आवश्यक है जिसमें जल की निकासी आसानी से हो सके। मिट्टी का पीएच मान 6.5 से 7.5 के बीच होना चाहिए।

गुलाब की किस्में-

गुलाब की खेती करते हैं तो उससे पहले आपको गुलाब की सारी किस्मों के बारे में जानकारी होना चाहिए, आप अपने खेत की मिट्टी और आपके क्षेत्र के तापमान को देख कर उसके हिसाब से ही गुलाब की किस्म का चयन करें। अब हम आपको नीचे गुलाब की कुछ किस्मों के बारे में बताने वाले हैं।

सुगंधित वर्ग की किस्में-

रोजा बरबौनियाना, रोजा डैमेसीनायह गुलाब की सुगंधित और देसी किस्म है, इस बाजार में बहुत ज्यादा मांग रहती है। इस किस्म के फूलों का तेल और गुलाब जल बनाया जाता है

लता वर्ग की किस्में

रोजा बैंकसिया, रोजा ल्यूटिया, व्हाइट रैम्बलरइस किस्म का पौधा बेल के आकार का होता है, इस पौधे में एक शाखा पर बहुत सारे फूल लगते हैं, और इस पौधे को दीवार के सहारे से ऊपर चढ़ाया जाता है।

Read More: अमरूद की खेती कैसे करें

हाइब्रिड टि किस्मे-

सुपर स्टार, पूसा गौरव, अर्जुन, रक्तगंधा यह गुलाब की सबसे प्रमुख किचन में इस किस्म के पौधे में सिर्फ एक ही फूल लगता है वह भी ऊपर टहनी पर, इस किस्म को ज्यादातर यूरोप में बोया जाता है।

गुलाब के खेत की तैयारी

गुलाब की फसल अक्टूबर से नवंबर महीने में बोई जाती है, वैसे आप इस  पौधे को फरवरी महीने तक भी लगा सकते हैं। वैसे आप इस पौधे को ज्यादा गर्मी में लगाएं क्योंकि जब बोला खेत में लगा दिया जाता है और पौधा कैसे बाहर निकलता है तो उस समय उसे रोजाना चार से 5 घंटे धूप की आवश्यकता होती है तो आप इस पौधे को उस समय लगाएं जब दिन में 4 से 5 घंटे की धूप रहेगी। 

जब आप गुलाब की खेती करते हैं तो उससे पहले आपको चार से 5 सप्ताह  पहले आपको पूरे खेत में जितने पौधे लगाने उसके आधार पर आपको पहले नर्सरी तैयार करनी होती है।  नर्सरी तैयार करने के लिए आपको गुलाब के बीजों को 60-90 सेंटीमीटर के गहराई में जमीन में बो देना चाहिए, और बाद में आपको इसके ऊपर पानी लगा देना है। 

खाद एवं उर्वरक

गुलाब की खेती करने के लिए आपको उर्वरक और खाद की आवश्यकता होती है, उसमें सबसे पहले आपको सड़ी गली गोबर की खाद या कंपोस्ट को पूरे खेत में भी करा देना है, और उसके बाद आपको 10 ग्राम नाइट्रोजन, 10 ग्राम फास्फोरस और 15 ग्राम पोटाश की आवश्यकता रहती है।

जब आप गुलाब में पानी देते हैं तो उस समय आपको 50 से 100 ग्राम यूरिया भूमि की उर्वरक शक्ति के लिए खेत में डाल देना है, और जब जनवरी महीने में फूल आने लगे उसमें आपको अमोनियम सल्फेट को खेत में डाल देना जिससे पौधे में अच्छी क्वालिटी के फूल आते हैं।

सिंचाई 

गुलाब को खेत में लगा देते हैं तो उसके बाद आपको  सिंचाई दो से 3 दिन के अंतराल में करनी चाहिए, और जब गुलाब का पौधा थोड़ा सा बड़ा हो जाए तो  आप इसकी सिंचाई 7 से 8 दिन के बाद कर सकते हैं। ध्यान रहे कि जब आप गुलाब के खेत में हाथ डालते हैं तो उसके तुरंत बाद आपको खेत में सिंचाई करना अति आवश्यक है। 

रोग और कीट प्रबंधन

गुलाब की खेती में बहुत सारे लोग आते हैं, आपको अपने गुलाब की खेती को रोक से बचाने के लिए पौधे का विशेष ध्यान रखना है और समय-समय पर कीटनाशक दवा का छिड़काव करते रहना है। गुलाब के पौधे में क्राउन गॉल रोट, ब्लैक स्पॉट यह दो रोग बहुत ही ज्यादा आते हैं, पौधे को इस रोग से बचा कर रखना है।

पौधे की कटाई

 जब आपका गुलाब का पौधा बड़ा हो जाता है तो आपको इस पौधे की कटाई करना जरूरी रहता है, अक्टूबर महीने में कर सकते हैं,  नवंबर महीने में पौधे पर नई टहनियां आना शुरू हो जाता है इसके बाद पौधे में फूल आना शुरू हो जाते हैं तो उससे पहले आपको के पौधे की कटाई कर लेना है। 

निष्कर्ष

दोस्तों आज की हमारी इस पोस्ट में हमने आपको गुलाब की खेती कैसे करें इसके बारे में सारी जानकारी विस्तार से बताई है।  हमें उम्मीद है कि आपको यह जानकारी अच्छे से समझ आई है और आप इस जानकारी को पढ़ने के बाद गुलाब  की खेती को आसानी से और सही तरीके से कर सकते हैं।  अगर आपको हमारी यह पोस्ट पढ़ने के बाद गुलाब की खेती करने में कोई भी समस्या आती है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपकी समस्या को दूर करने की पूरी कोशिश करेंगे।

अगर आपको हमारी यह पोस्ट गुलाब की खेती कैसे करें पसंद आती है तो आप हमारी इस पोस्ट को अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर करें ताकि इस जानकारी को आपके दोस्तों को भी पढ़ने को मिले और वह भी मटर की खेती करके अच्छा लाभ कमा सके।

Read More: मटर की खेती कैसे करें

Categories: How To

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *